मुद्रा योजना

    उद्देश्य
  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना अथवा पीएमएमवाई योजना सूक्ष्म एवं लघु उद्यमियों को किफ़ायती ऋण उपलब्ध करने की भारत सरकार की एक अग्रणी योजना है। मुद्रा ऋण का उद्देश्य उद्यमियों को औपचारिक वित्तीय प्रणाली में लाना अथवा “निधि वंचितों को निधि प्रदान करना” है। पीएमएमवाई योजना के अंतर्गत विनिर्माण, व्यापार एवं सेवाओं के माध्यम से आय उपार्जन करने वाले गैर-फार्म सूक्ष्म या लघु उद्यमियों हेतु ऋण उपलब्ध है। कृषि संबद्ध गतिविधियों में संलग्न उद्यमी भी मुद्रा ऋण हेतु आवेदन कर सकते हैं ।
  • समस्त गैर फार्म उद्यम/संस्था सूक्ष्म उद्यमियों एवं लघु उद्यमियों जिनकी ऋण आवश्यकत रु.10.00 लाख तक है।
  • संतोषजनक परियोजना रिपोर्ट/ मार्केट रिपोर्ट के अधीन
  • बैंक के समस्त वर्तमान उधारकर्ता भी पात्र होंगे जो ऋण सुवधाओं का लाभ ले रहे हैं एवं जिनका बैंक के साथ लेनदेन संतोषजनक है।
    ऋण सीमा:
  • शिशु : पीएमएमवाई योजना के अंतर्गत संस्वीकृत ऋण रु.50000 तक
  • किशोर: पीएमएमवाई योजना के अंतर्गत संस्वीकृत ऋण रु.50001 से रु.5.00 लाख तक
  • तरुण: पीएमएमवाई योजना के अंतर्गत संस्वीकृत ऋण रु.5,00,001 से रु.10.00 लाख तक
  • मार्जिन
  • परियोजना लागत का न्यूनतम 25%
  • ब्याज दर :
  • ब्याज दर की जानकारी हेतु यहाँ क्लिक करें

    प्राथमिक प्रतिभूति:
  • कार्यशील पूंजी: स्टॉक, ऋण बही एवं वर्तमान आस्तियों का दृष्टिबंधक
  • मियादी ऋण: प्लांट एवं मशीनरी और बैंक द्वार वित्त पोषित आस्तियों का दृष्टिबंधक
  • संपार्श्विक प्रतिभूति:
  • एनसीजीटीसी द्वारा सूक्ष्म इकाइयों हेतु ऋण गारंटी निधि (सीजीएफएमयू) के अंतर्गत कवरेज
    चुकौती अवधि
  • कार्यशील पूंजी: दृष्टिबंधक
  • मियादी ऋण: 5 से 7 वर्ष.