सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग

सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग

निधि अन्तरण के जाली प्रस्तावों के झांसे मे ना आएं : भा.रि.बै. सलाहकार

  • भा.रि.बैं. ने सूचित किया है कि हाल ही में जालसाजों से सस्ते फंड के फर्जी प्रस्ताव प्राप्त हो रहे हैं। ये पत्र, ई-मेल, मोबाइल फोन, एसमएस इत्यादि के माध्यम से आयी। जालसाजों की कार्यपद्धति का विवरण देते हुए रिजर्व बैंक ने बताया है कि भारतीय रिजर्व बैंक के नकली लेटर-हेड पर इसके तथाकथित शीर्ष कार्यपालकों/वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा हस्ताक्षरित प्रती त होने वाले पत्र-व्यवहार के माध्यम से लक्षित लोगों को सूचना भेजी जा रही थीं।

  • रिजर्व बैंक के संज्ञान में यह भी आया है कि जालसाजों द्वारा भोलेभाले लोगों से विभिन्न शीर्षों के अन्तर्गत जैसे प्रोसेसिंग शुल्क/अन्तरण शुल्क/टैक्स क्लियरेन्स चार्जेज/कनवर्जन चार्जेज, समाशोधन शुल्क् के रूप में राशि मांगी जाती है। जालसाजों द्वारा ट्रांजेक्श न चार्जेज इत्यादि के संग्रहण हेतु बैंक में बहुविध खाते व्यक्तिगत या प्रोपराइटर्स के नाम से बैंक की विभिन्न शाखाओं में खोले जाते हैं। जालसाजों द्वारा पीड़ित व्यक्ति को इन खातों में कुछ राशि जमा करने हेतु राजी किया जाता है। उस धनराशि को तत्काल निकाल लिया जाता था जिससे पीड़ित असमंजस में पड़ जाते हैं।

  • रिजर्व बैंक ने स्पष्ट किया है कि भारत में निवास करने वाला कोई भी व्यक्ति जो ऐसे भुगतान का प्रत्यक्ष/परोक्ष रूप से भारत के बाहर संग्रहण एवं निष्पादन/प्रेषण करता है, तो अपने ग्राहक को जानिये (केवाईसी) मानदंडों/एंटी मनी लॉन्ड्रिग (एएमएल) मानकों से संबंधित विनियमों के अतिक्रमण के साथ-साथ विदेशी मुद्रा प्रबन्धन अधिनियम, 1999 के उल्लंघन हेतु कानूनी कार्रवाई के लिये उत्तरदायी होगा।


  •  निधियों के अंतरण के फर्जी प्रस्तावों से संबंधित भारिबै सलाहकार हेतु यहाँ क्लिक करें

इंटरनेट बैंकिंग सुरक्षा उपाय

  • भावी ग्राहक को सभी आवश्यक सूचना दी जानी चाहिए, मुख्य रूप से उनके आवश्यकतानुसार हमारे बैंक में उपलब्ध ऋण उत्पादों का पूर्ण विवरण।
  • प्रत्येक इंटरनेट बैंकिंग यूजर को यूजर आईडी, लॉगइन पासवर्ड और ट्रांजेक्शन पासवर्ड उपलब्ध कराया गया है। इन तीनों मदों से यूजर इंटरनेट बैंकिंग लॉगइन करने एवं निधि अंतरण जैसे लेन-देन करने हेतु सक्षम होता है। इसलिये ये ग्राहक/यूजर के लिये बहुत ही गोपनीय है तथा इनका प्रकटन कभी भी किसी को नहीं करना चाहिए चाहे व्यक्ति इलाहाबाद बैंक से होने का दावा क्योंा न करे।
  • यह ग्राहक/यूजर की जिम्मेदारी है कि यूजर आईडी, लॉगइन पासवर्ड एवं ट्रांजेक्शन पासवर्ड का प्रकटन न करें। इसलिये अल्फाि न्यु मरिक व विशेष चिन्हों से मिश्रित जटिल पासवर्ड रखना हमेशा बेहतर होगा, जिससे अन्य द्वारा इसका अनुमान लगाना मुश्किल हो।
  • हमेशा लॉगइन एवं ट्रांजेक्शन पासवर्ड भिन्न रखें, जिससे पासवर्ड की पहचान करना कठिन हो जाय।
  • अपने इंटरनेट बैंकिंग पासवर्ड (लॉगइन के साथ-साथ ट्रांजेक्शन पासवर्ड) को नियमित रूप से बदलते रहें, जिससे अन्य द्वारा अनुमान लगाने के अवसर कम हों।
  • कभी भी आपने ई-मेल में हाइपरलिंक या किसी वेबसाइट पर किसी लिंक पर क्लिक न करें जो आपको इलाहाबाद बैंक की इंटरनेट बैंकिंग वेबसाइट पर लॉगइन करने का निर्देश देता है। अधिकांशतः ये लिंक फर्जी होते हैं जो नकली वेबसाइट पर ले जाते हैं तथा इनका उद्देश्य ग्राहक से यूजर आईडी एवं पासवर्ड प्राप्त करना होता है, जिससे राशि निकालने हेतु इंटरनेट बैंकिंग का अप्राधिकृत एक्सेस किया जा सके।
  • हमेशा ब्राउजर के एड्रेसबार में वेबसाइट का पूर्ण पता अंकित करे या फेवरेट में संग्रहित सूची से एक्सेस करें।
  • ई-मेल में किसी लिंक या किसी अन्य वेबसाइट के माध्यम से कोई वेबसाइट जैसे बैंक वेबसाइट एक्सेस न करें।
  • इंटरनेट बैंकिंग सेवा हेतु यूजर आईडी एवं पासवर्ड डालने से पूर्व हमेशा यह सुनिश्चित कर लें कि आपने https://www.allbankonline.in को एक्सेस किया है। इस वेबसाइट को इलाहाबाद बैंक की वेबसाइट www.allahabadbank.com व www.allahabadbank.in में इंटरनेट लिंक के माध्यम से एक्सेस कर सकते हैं। फिशिंग वेबसाइट से सावधान रहें जहां पेज बैंक की वास्तविक वेबसाइट सा दिखता है परन्तु वेबसाइट एड्रेस भिन्न होता है।
  • साइबर कैफे या सार्वजनिक कंप्यूटर से इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस से बचे क्योंीकि वहां इस प्रकार के कंप्यूटर पर कुछ गुप्तं एप्लिकेशन (Spyware Like Keyloggers) संस्थापित हो सकते हैं जो आपके यूजर आईडी एवं पासवर्ड को कैप्चर कर सकता है। संभवतः पासवर्ड डालने के लिये वर्चुअल की-पैड का प्रयोग करें।
  • जब कभी इंटरनेट बैंकिंग को लॉगइन करें तो अपने पिछले लॉगइन तिथि व समय की जांच कर सुनिश्चित कर लें कि आप ही ने उस समय लॉगइन किया है। आपके खाते में किसी व्यक्ति द्वारा एक्सेस किये जाने की संदेहास्पद स्थिति में सबसे पहले अपना लॉगइन एवं ट्रांजेक्शन पासवर्ड परिवर्तित करें तथा आप अपने ट्राजेक्शन का सत्यापन करें। किसी भी विसंगति की स्थिति में शाखा को सूचित करें।
  • मेन्यू के अन्दर पिछला लॉगइन विवरण एवं नेवीगेशन हिस्ट्री विकल्प के माध्यम से जांचा जा सकता है।
  • हर बार अपना ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजेक्शन पूर्ण करने के पश्चात वेब ब्राउजर से बन्द करने के बजाय लॉगआउट विकल्प से लॉगऑफ करें, ऐसे मामलों में वेब ब्राउजर के बंद होने के पश्चात भी सेशन मान्य रहता है।
  • किसी भी अनधिकृत ट्रांजेक्शन से बचने के लिये अपने बैलेन्स एवं लॉगइन स्टेटमेन्ट को जांच करते हुये हमेशा अपने खाते की गतिविधि को ट्रैक करें।
  • सिस्टम छोड़ने से पूर्व सभी ब्राऊजिंग हिस्ट्री (अस्थायी फाइल, कुकीज इत्यादि) को हटा दें। साथ ही समुचित लॉगआउट करने के पश्चात ब्राउजर को बन्द कर दें।
  • अपने ऑनलाइन ट्रांजेक्शन हेतु एसएमएस अलर्ट प्राप्त करने के लिये हमेशा अपना सही एवं मौजूदा मोबाइल नं. शाखा में अद्यतन करवाएं। यदि आपको आपके खाते में ट्रांजेक्शन हेतु एसएमएस अलर्ट प्राप्त नहीं हो रहे हैं तो एसमएस प्राप्त करने हेतु बैंक के सिस्टम में आपके मोबाइल नम्बर अद्यतन करवाने हेतु अपनी मूल शाखा से सम्पर्क करें।
  • इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस हमेशा ब्राउजर के नवीनतम रूपान्तरण जैसे एक्सप्लोरर 7.0 और ऊपर, फायरफॉक्स 3.6.3 और ऊपर इत्यादि के माध्यम से ही करें, जैसे ही यूआरएल हरा दिखने लगे तो समझें कि आप सुरक्षित इलाहाबाद बैंक की इंटरनेट बैंकिंग साइट में एक्सेस कर रहे हैं।
  • अपनी सूचनाओं की सुरक्षा बढ़ाने हेतु ब्राउजर में “आटो कम्परलीट” फंक्शन को डिसेबल कर दें।
  • यूजर आईडी व पासवर्ड डालने से पूर्व देख लें कि क्या ब्राऊजर यूआरएल “https://” से प्रारम्भ होता है तथा ब्राउजर के दाएं निचले कोने पर पेडलोक आइकन बना हुआ है।
  • “क्या यह वैध साइट है?” के विकल्प पर आप सीआईएफ नं. तथा जन्म तिथि डालकर भी इंटरनेट बैंकिंग वेबसाइट की वास्तविकता की जाँच कर सकते हैं इस प्रकार यदि आपको सही व्यक्तिगत विवरण प्राप्त नहीं होता है तो फिशिंग वेबसाइट को आसानी से पहचाना जा सकता है।
  • किसी प्रकार की समस्या हेतु बिना किसी विलम्ब के ibteam@allahabadbank.in को लिख सकते हैं एवं आपनी मूल शाखा से सम्पर्क कर सकते हैं।

एटीएम सुरक्षा मापदण्ड

  • विभिन्न ऋण उत्पादों हेतु ब्याज दर और इसमें परिवर्ती संशोधन की सूचना किसी एक या सभी मीडिया जैसे कि बैंक की वेबसाइट, दूरभाषा जहाँ टेली-बैंकिंग सुविधा उपलब्ध है, अन्य मीडिया के माध्यम से दी जाएगी।
  • • अपने पिन को गोपनीय रखना परम-आवश्यक है। अपना पिन न तो कहीं लिखें और न ही किसी को बताएं चाहे वो आपके कितना भी घनिष्ठश क्योंल न हो। पिन को हमेशा याद रखें।
  • अपना पिन नियमित रूप से बदलते रहें ।
  • एटीएम का प्रयोग करते समय एटीएम के बिल्कुल नजदीक खड़े हों ताकि आपको पिन डालते हुए कोई भी देख ना सके।
  • एटीएम का प्रयोग करने हेतु अजनबियों से सहायता लेने से बचे।
  • एटीएम से निकलने से पूर्व कैंसल-की को दबाए एवं अपना कार्ड वापस लें।
  • यदि ट्रांजेक्शन पर्ची का भविष्य में कोई उपयोग नही हैं तो इसे नष्ट कर दें।
  • ऐसे एटीएम का उपयोग करने से बचे जो एकान्तक जगह पर स्थापित है।
  • एटीएम कार्ड गुम हो जाने पर उसे बन्द करवाने हेतु शाखा के साथ-साथ टोल फ्री फोन नम्बर पर रिपोर्ट करें। प्रत्येक एटीएम साइट पर टोल फ्री फोन नं. (1800220363) उपलब्ध है।
  • एटीएम में एटीएम कार्ड फंस जाने की स्थिति में शाखा से तुरन्त सम्पर्क करें।
  • एटीएम मशीन के सामान्य न दिखने की स्थिति में सतर्क रहें, जैसे कि- उपकरणों का असामान्य दिखना अथवा विशेषकर किसी एटीएम कार्ड स्लॉट के नजदीक उपकरण से किसी तार का जुड़ा होना।
  • हर किसी को अपना बैंक खाता नियमित रूप से देखना चाहिए तथा यह सुनिश्चत करना चाहिए कि कोई असामान्य/अनधिकृत ट्रांजेक्शन तो नहीं किया गया है।
  • यदि एटीएम के आसपास कुछ असामान्य या संदेहास्पद देखते हैं अथवा आपके बैंक खाते से अनधिकृत एटीएम ट्रांजेक्शन पाते हैं तो तुरन्त अपनी मूल शाखा/स्थानीय विधि प्रवर्तन एजेन्सी से सम्पर्क करें।
  • अपने खाते से जमा/निकासी पर एसएमएस अलर्ट तथा अन्य सूचनाओं के लिये और ई-मेल अलर्ट प्राप्त करने हेतु अपनी शाखा में अपना मौजूदा मोबाइल नं. एवं ई-मेल एड्रेस अद्यतन करवाएं।

मोबाइल बैंकिंग सुरक्षा मापदण्ड

  • • हमेशा अपना एप्लिकेशन पासवर्ड और एमपिन गोपनीय रखें। इन्हें मोबाइल फोन में सेव न करें या कागज पर न लिखें।
  • एप्लिकेशन पासवर्ड और एमपिन को नियमित रूप से परिवर्तित करते रहें, जिससे इन्हें समझ पाना मुश्किल हो।
  • एप्लिकेशन को ब्लूटूथ या एमएमएस अटैचमेंट के माध्यम से डाउनलोड करते समय सावधान रहें। इनमें कुछ हानिकारक सॉफ्टवेयर समाहित होते हैं जो मोबाइल फोन को प्रभावित कर देंगे।
  • मोबाइल बैंकिंग सेवा का उपयोग करते हुए अपना हैण्डसेट/मोबाइल अथवा मोबाइल बैंकिंग पूर्ण किये बिना किसी अनजान व्यक्ति को एक्सेस करने की अनुमति ना दें अथवा मोबाइल को अरक्षित न छोड़े।
  • यदि मोबाइल फोन या सिम गुम हो जाता है तो मूल शाखा से, जहां से मोबाइल बैंकिंग उपलब्ध की गई है, मोबाइल बैंकिंग को डी-रजिस्टोर करवाने हेतु तुरन्त कार्रवाई करें।
  • यदि आप मोबाइल बैंकिेंग सुविधा का लाभ अब नहीं उठाना चाहते हैं तो आपको मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन को डी-रजिस्टिर कराना चाहिए।
  • आप सुनिश्चित करें कि आपके खाते से जमा/निकासी हेतु एसएमएस अलर्ट प्राप्त हो रहे हैं। एसएमएस प्राप्त ना होने की स्थिति में मूल शाखा से सम्पर्क करें।
  • यदि मोबाइल हैण्डसेट ठीक करवाने के लिये दिया गया है तो सुनिश्चित कर लें कि मोबाइल बैंकिंग से संबंधित गोपनीय डेटा फोन में न रह गया हो।
  • आपके सेल फोन का आईएमईआई (इन्टरनेशनल मोबाइल इक्यूपमेन्ट आइडेन्टिटि) नोट करें तथा सुरक्षित स्थान पर रखें। इससे मोबाइल मालिक को चोरी हुए मोबाइल को मोबाइल आपरेटर के माध्यम से आगामी उपयोग हेतु ब्लाक करवाने में सहायता मिलेगी।
  • चेन एवं जंक मैसेज नियमित रूप से हटा देना चाहिए।
  • किसी प्रकार की समस्या की स्थिति में customercare@allahabadbank.in को लिखें।

फिशिंग

फिशिंग इलेक्ट्रानिक संचार के माध्यम से विश्वसनीय संस्थाे होने का दिखावा कर संवेदनशील सूचना जैसे यूजर नेम, पासवर्ड और क्रेडिट/डेबिट कार्ड का विवरण प्राप्त करने के लिए अपराधिक जालसाजी प्रक्रिया का प्रयास है। यह ई-मेल जालसाजी का एक तरीका है, जिसमें अपराधी वैध दिखने वाला ई-मेल भेज कर मेल प्राप्तप करनेवाले व्यईक्ति की निजी एवं वित्तीय जानकारी इकट्ठा करने का प्रयास करता है। विशेष रूप से ऐसा प्रतीत होता है कि यह मैसेज किसी विश्वसनीय एवं जाने-माने स्रोत से प्राप्त हुआ है। फिशर्स अपने शिकार को धोखा देने के लिए अलग सोशल इंजीनियरिंग नम्बर एवं नकली ई-मेल का प्रयोग करते है।


 फिशिंग आक्रमण से बचने के सुझाव


  • कभी भी ऐसे ई-मेल का जवाब न दें जिसमें व्यक्तिगत सूचना जैसे यूजर आईडी, पासवर्ड इत्यादि की मांग की गई है।
  • अपना पासवर्ड अत्यंत गुप्त रखें तथा समय-समय पर बदलते रहें।
  • खाते में एक्सेस करने हेतु साइबर कैफे के प्रयोग से बचें। यदि एक्सेस आवश्यक है तो पासवर्ड डालने के लिये संभवतः वर्चुअल (आभासी) की-पैड का उपयोग करें।
  • नवीनतम एवं अद्यतन एन्टीवायरस सॉफ्टवेयर लगाकर अपने कंप्यूटर को सुरक्षित करना सुनिश्चित करें।
  • इंटरनेट सर्फिंग के समय अनधिकृत एक्सेस से बचने के लिये जिस पीसी में ऑनलाइन ट्रांजेक्शन किया जा रहा है उसमें व्यक्तिगत फायरवेल संस्थापित/इनेबल करना बेहतर होगा।
  • कोई भी संवेदनशील सूचना प्रस्तुत करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि विजिट की जाने वाली वेबसाइट सुरक्षित है।
  • कृपया नोट कर लें कि इलाहाबाद बैंक कभी भी आपका किसी प्रकार का विवरण नहीं मांगता है।
  • कभी भी सभी ऑनलाइन खातों के लिये एक ही पासवर्ड का उपयोग न करें।
  • स्पेम ई-मेल को खोलने या जबाव देने से बचें।
  • यदि ब्राउजर का नवीनतम संस्कनरण है (इंटरनेट एक्सप्लोरर 7.0 और ऊपर, फायरफॉक्स 3.6.3 और इससे अधिक इत्यादि) तो देखें कि एड्रेस बार में बैंक की इंटरनेट बैंकिंग वेबसाइट एड्रेस डालने के पश्चात एड्रेस बार हरा हो जाता है, जो यह इंगित करता है कि यह एक प्रमाणित एवं विश्वसनीय साइट है तथा भरोसे के साथ ऑनलाइन ट्रांजेक्शन किया जा सकता है।
  • साइट सुरक्षित चल रही है इसकी पुष्टि करने हेतु ब्राउजर के नीचे पेडलोक चिन्ह को देखें।
  • डाले गए विवरण को याद रखने से ब्राउजर को रोकनेन के लिए “आटो कम्पेलीट” फंक्शन को डिसेबल करें।
  • ब्राउजर को सीधे बन्द करने की अपेक्षा सेशन को हमेशा लॉगआउट के माध्यजम से निरस्त‍ करें।
  • हमेशा ब्राउजर के एड्रेस बार में वेबसाइट का एड्रेस अंकित करें या फेवरेट में संग्रहित सूची से एक्सेस करें।
  • ई-मेल के माध्यम या अन्य वेबसाइट लिंक के माध्यम से बैंक की वेबसाइट को एक्सेस न करें।
  • पासवर्ड में विशेष कैरेक्टर जैसे # $@ इत्यादि का प्रयोग किया जाना अत्यावश्यक है।
152
वर्षों से आपकी सेवा में
3250
शाखाएँ
4.58
करोड़ ग्राहक
92441
सीएएसए (करोड़ में)