कौशल ऋण योजना

नर्सरी कक्षा से 12वीं कक्षा तक स्कू0ली शिक्षा पानेवाले विद्यार्थियों के मता-पिता/अभिभावकों हेतु।

    कोई भी व्यक्ति जिसने औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों अर्थात् पॉलीटेकनिक अथवा केंद्र या राज्य शिक्षा बोर्डों अथवा मान्यता प्राप्त स्कूल अथवा मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से संबद्ध कॉलेज, राष्ट्रिय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) से संबद्ध प्रशिक्षण साझीदार/क्षेत्र कौशल परिषदों, राज्य कौशल मिशन, राज्य कौशल निगम में प्रवेश लिया है, जो अधिमानतः राष्ट्रिय कौशल अर्हता संरचना (एनएसक्यूएफ़) के अनुसार सर्टिफिकेट/ डिप्लोमा/ डिग्री जारी करते हैं, योजना के अंतर्गत ऋण हेतु पात्र है। भारत सरकार राज्य सरकारें समय- समय पर संस्थानों/संगठनों को इस उद्देश्य हेतु अधिसूचित करेंगी जिसकी सूचना तदनुसार दी जाएगी। उपरोक्त उल्लिखित प्रशिक्षण संस्थानों द्वारा चलाए जा रहे कोर्स जिन्हें राष्ट्रीय कौशल योग्यत फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) से श्रेणीबद्ध किया गया है, भी “कौशल ऋण योजना’’ में शामिल है।

    पाठ्यक्रम अवधि:

    कौशल ऋण हेतु पात्रता के लिए विद्यार्थी की आयु से संबंधित कोई विनिर्दिष्टर प्रतिबंध नहीं है।

    न्यूनतम आयु:

    कौशल ऋण हेतु पात्रता के लिए विद्यार्थीकी आयु से संबंधित कोई विनिर्दिष्ट् प्रतिबंध नहीं है। तथापि, यदि विद्यार्थी नाबालिग है और माता-पिता ऋण हेतु दस्तावेज प्रस्तुत कर रहे हो तो शाखाओं को उनके व्यस्क होने पर उनसे (विद्यार्थी) स्वीकृति/अनुसमर्थन पत्र लेना होगा।

वित्त पोषण की न्यूनतम मात्रा रु. 5000/- एवं अधिकतम रु. 150,000/-

वित्त पोषण की न्यूनतम मात्रा रु. 5000/- एवं अधिकतम रु. 150,000/-

वित्त पोषण की न्यूनतम मात्रा रु. 5000/- एवं अधिकतम रु. 150,000/-