सदियों का भरोसा पीढ़ियों का विश्वास बनता हुआ...

24 अप्रैल, 1865

यूरोपियन दल ने संगम नगर इलाहाबाद में इस बैंक की स्थापना की।

1920's

बैंक अपने प्रति शेयर रु.436/- के बिड प्राइस सहित पी एंड ओ बंकिंग कॉर्पोरेशन ग्रुप का हिस्सा बना।

1923

बैंक का प्रधान कार्यालय व्यावसाय के विचार से कलकता स्थानांतरित किया गया।

19 जुलाई, 1969

151 शाखाओं, रु.119 करोड़ जमाराशि, रु.82 करोड़ अग्रिम सहित 13 अन्य बैंकों के साथ बैंक राष्ट्रीयकृत हुआ।

अक्टूबर, 1989

यूनाइटेड इंडस्ट्रियल बैंक का इलाहाबाद बैंक में विलय हुआ।

1991

ऑलबैंक फाइनांस लिमिटेड की स्थापना हुई, जो मार्चेंट बैंकिंग के लिए पूर्ण स्वामित्ववाली अनुषंगी है।

अक्टूबर, 2002

बैंक प्रति शेयर रु.10/- अंकित मूल्य के 10 करोड़ शेयर को प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव (आईपीओ) के रूप में लाया जिससे सरकार की शेयरधारिता कम होकर 71.16% हो गई।

अप्रैल, 2005

रुपये 72 प्रिमीयम वाला प्रति शेयर रु.10/- अंकित मूल्य के 10 करोड़ इक्विटी शेयर का अनुवर्ती सार्वजनिक प्रस्ताव (एफपीओ) जिससे सरकार की शेयरधारिता कम होकर 71.16% हो गई।

जून, 2006

देश की सीमा को पार करते हुए बैंक ने शेनज़ेंग, चीन में प्रतिनिधि कार्यालय खोला।

अक्टूबर, 2006

सीबीएस के तहत पहली शाखा की शुरूआत की।

फरवरी, 2007

बैंक ने अपनी पहली विदेशी शाखा हॉन्ग कॉन्ग में खोला।

मार्च, 2007

बैंक का व्यवसाय रुपये 1,00,000/- करोड़ के पार पहुँचा ।

मार्च, 2010

बैंक ने 23.06% की वृद्धि दर से रुपये 1,75,000/- करोड़ के व्यवसाय को पार किया।

मार्च, 2011

बैंक ने समस्त शाखाओं में सीबीएस लागू किया।

मार्च, 2012

बैंक ने 2500 शाखाओं के पार अपना नेटवर्क फैलाया।

मार्च, 2013

बैंक ने रु.3,00,000/- करोड़ आँकड़े के बेंच मार्क व्यवसाय को पार किया एवं “बड़े बैंकों की परिधि’’ में शामिल हुआ।

अप्रैल, 2014

बैंक ने अपनी स्थापना का 150वाँ वर्षगाँठ मनाया।