img

इलाहाबाद बैंक संशोधित जनरल क्रेडिट कार्ड (जीसीसी) योजना

    प्रयोजन :
  • गैर-कृषि क्षेत्र में उद्यमिता गतिविधियों हेतु जनरल क्रेडिट कार्ड (जीसीसी) के माध्य)म से व्यबक्तियों हेतु ऋण प्रवाह बढ़ाना। यह ऋण प्राथमिकता क्षेत्र दिशानिर्देशों के अनुसार वर्गीकरण हेतु पात्र है।
  • व्याक्तियों को प्रदान किये गये सभी गैर-कृषि उद्यमिता ऋण। संशोधित जीसीसी योजना के अंतर्गत पात्र लाभार्थियों का निर्णय करने हेतु परिपत्रित केवाईसी/समुचित सावधानी मानदंड लागू होंगे।
  • महिला लाभार्थियों को बैंक ऋण की परिधि में लाने के उद्देश्यई से संशोधित जीसीसी योजना के अंतर्गत महिलाओं को वरीयता दी जाए।
    ऋण सीमा:
  • अधिकतम रु.25000/- प्रति उधारकर्ता
  • मीयादी ऋण: संयंत्र और मशीनरी/उपकरणों की लागत।
  • नकदी ऋण: प्रक्षेपित विक्रय टर्नओवर के 20% तक। तथापि, यदि उधारकर्ता टर्नओवर पद्धति के आधार पर गणना की गयी कार्यशील पूंजी से कम या अधिक कार्यशील पूंजी हेतु आवेदन कर रहा है तो कार्यशील पूंजी का निर्धारण वास्त्विक अपेक्षा के अनुसार किया जाएगा।
    प्राथमिक प्रतिभूति
  • मीयादी ऋण: संयंत्र और मशीनरी तथा यूनिट की समस्त चल आस्तियों (वर्तमान और भावी) का दृष्टिबंधन
  • नकदी ऋण: स्टॉतक और बही ऋण तथा अन्य् चालू आस्तियों (वर्तमान और भावी) का दृष्टिबंधन
  • संपार्श्विक प्रतिभूति
  • कोई संपार्श्विक प्रतिभूति अपेक्षित नहीं होगी। तथापि, पात्र खाते सीजीटीएमएसई कवरेज के अंतर्गत कवर होंगे।
    चुकौती अवधि:
  • मीयादी ऋण की डोर टू डोर अवधि 60 माह होगी।
  • मीयादी ऋण 42-54 समान मासिक मूलधन किस्तोंच में चुकाया जाएगा और ब्यातज की चुकौती देय होने पर की जाएगी। चुकौती अनुसूची सतत अपेक्षाओं, अधिशेष अर्जन क्षमता, ब्रेकइवन पॉइंट, आस्ति की आयु आदि को ध्याीन में रखते हुए किया जाना चाहिए न कि तदर्थ तरीके से।
  • मीयादी ऋण : 5-7 वर्ष
  • अधिस्थ गन अवधि:
  • 6 से 18 माह (परियोजना की अपेक्षा के आधार पर)