अटल पेंशन योजना

भारत सरकार कामगार गरीबों की वृद्धावस्था आय सुरक्षा के बारे में चिंति‍त है और उनकी सेवानिवृत्ति के लिए उन्हेंम बचत करने हेतु प्रोत्साोहित करने और समर्थ बनाने पर ध्याबन केंद्रित कर रही है। असंगठित क्षेत्र में कामगारों के मध्यन दीर्घायु जोखिमों का समाधान करने और असंगठित क्षेत्र में कामगारों को उनकी सेवानिवृत्ति हेतु स्वैमच्छिक बचत के लिए प्रोत्सारहित करने के लिए भारत सरकार ने 2015-16 के बजट में अटल पेंशन योजना शुरूआत की थी।

पात्रता

एपीवाई 18-40 वर्ष के बीच की आयु के सभी भारतीय नागरिकों पर लागू है।

आधार प्राथमिक केवाईसी होगा। यदि पंजीकरण के समय यह उपलब्धी नहीं है तो आधार विवरण बाद में भी प्रस्तुकत किये जा सकते हैं।

एपीवाई योजना में अंशदान हेतु बचत बैंक खाता आवश्यहक है।

राशि

एपीवाई के अंतर्गत अंशदाता को अंशदाता अंशदान चार्ट के अनुसार रु.1000/-, रु.2000/-, रु.3000/-, रु.4000/- और रु.5000/- से स्थिर मासिक पेशन राशि मासिक अंशदान का भुगतान करने का विकल्पं है। अंशदाता अंशदान चार्ट

अवधि

परिपक्व ता अवधि: 60 वर्ष की आयु होने पर।

परिपक्व ता से पूर्व बंद करना:60 वर्ष की आयु होने से पूर्व निकास की अनुमति नहीं है, तथापि, असाधारण परिस्थितियों में इसकी अनुमति है अर्थात् लाभार्थी, की मृत्युा होने अथवा अंतस्थष बीमारी की स्थिति में।

अंशदाता की मृत्युन होने की स्थिति में पेंशन पति-पत्नीन को उपलब्धी होगी और दोनों (अंशदाता और पति-पत्नीथ) की मृत्युा होने की स्थिति में पेंशन निधि उसके/उनके नामिती को लौटायी जाएगी।

नोट: योजना के अद्यतन अनुदेशों/आशोधनों हेतु कृपया www.npscra.nsdl.co.in देखें।